लोहड़ी के त्यौहार को लेकर विशेष's image
International Poetry DayPoetry2 min read

लोहड़ी के त्यौहार को लेकर विशेष

JAGJIT SINGHJAGJIT SINGH January 13, 2022
Share0 Bookmarks 37 Reads0 Likes

आज होगी लोहड़ी के त्यौहार की बात ।

जो सच होता वो ही लिखवाते प्रभु,नीलू दीदी और मेरी मां मिलकर लिखवाते अपने बेटे सनी से फिर चाहे दिन हो या हो आधी रात ।


आज हर कोई लोहड़ी का त्यौहार मनायेगा ।

मां तेरे बिना हर त्यौहार हमारा हर बार अधूरा रह जायेगा।

प्रभु,नीलू दीदी की कलम और मां तेरे आशिर्वाद से ये नादान सनी अपनी आखरी सांस तक लिखता ही जायेगा।


आज ज्यादातर लोग बेटे की करते है प्रभु आपसे मांग।

लेकिन एक बात समझ नहीं आती कल को अगर बेटियां ना मिली तो उनके बेटे किसकी भरेंगे सिंदूर से मांग।


जन्नत प्रभु आपने है जैसी बनाई ।

बेटियां भी प्रभु आपने वैसे ही फुर्सत से है बनाई।


बेटा बेटी के फ़र्क को कम करना होगा।

बेटियों के दिल को भी समझना होगा।


अगर कोई बेटे को कोई लड़की पसंद आ जाये तो पूरा परिवार खुशी से उसकी शादी करवा के देते।

लेकिन अगर खुद की बेटी किसी को पसंद कर ले तो आज भी कई परिवार वाले अपनी ही लड़की के खिलाफ़ खड़े हो जाते।

और अपनी ही बेटी को बहुत कुछ सुना देते।


आज कल बेटों से ज्यादा बेटियां अपना फ़र्ज़ निभाती।

कभी मायिके तो ससुराल के लिये जितना मर्ज़ी करले बेटियां कभी नहीं सुनाती।


आज लोहड़ी के त्यौहार बस इतना है बताना।

बेटियों को नहीं चाहिए एक मां की कोख में कभी भी मरवाना।


आज बेटे पाने की चाहत में कितने लोग बेटियों को जन्म से पहले ही मरवा देते।

और अगर बेटा पैदा हो जाये तो बड़े से बड़े होटल में पूरे शहर को दावत पे बुला लेते ।


बेटियां होंगी तो कल को बेटों का भाविश बच पायेगा।

लोग जो मर्ज़ी कहे मुझे परवाह नहीं।

 प्रभु,नीलू दीदी और मेरी मां का आशिर्वाद अभी पता नहीं अपने बेटे सनी से क्या क्या लिखवायेगा✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts