कंजक पूजन है आज ।'s image
International Poetry DayPoetry2 min read

कंजक पूजन है आज ।

JAGJIT SINGHJAGJIT SINGH April 9, 2022
Share0 Bookmarks 79 Reads0 Likes

आज माता का गुणगान हो रहा है।

हर घर में आज कंजक पूजन हो रहा है। 


छोटी छोटी कंजक माता के रूप में सजी है।

दुर्गा अष्टमी की लोगों में खुशी बड़ी है।

लेकिन मां आज आपकी कमी हमें बड़ी खली है ।


क्योंकि मां आज मैं आपको मोली ना बांध पाया ।

 हर साल टिका लगाता था मां लेकिन आज मैं आपको टिका ना लगा पाया ।


माता रानी सबकी मनोकामना पूरी करे।

हर किसी की झोली सुख और खुशियां से भरे।


इंसान भी अच्छे कर्म करे।

अपने ही अपनों की खुशी से ना जले।


रिश्ते आज कल धागे से भी कच्चे होते जा रहे है।

कुछ लोग अपने पैसे का दिखावा कुछ ज्यादा ही करते जा रहे ।


कलयुग का परकोप बड़ा है।

कुछ इंसानों में आज कल पैसों का अहंकार बड़ा है।


कुछ इंसान करवाते है मां के पेट में बेटा या बेटी पता करवाने का घिनौना काम।बेटी हुई तो उसे कोख में ही अक्सर मरवाने का काम।


और बेटा हुआ तो सब एशो आराम कर देते है बेटे के नाम।

बता नहीं सकता मैं ऐसे बहुत है नाम।


माता रानी के जितने मर्जी जागरण करवा लो।

चाहे घर में कंजके बिठा लो।


अपने गुनाह छुपा नहीं पाओगे।बेटी को मरवाने का जिस जिस ने काम किया है एक दिन इसकी सज़ा तुम जरूर प्रभु से पाओगे।

प्रभु और नीलू दीदी कहते है सनी कलम हमारी दी हुई है सच तुम इससे लिखते ही जाओगे✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts