कैप्टन विक्रम बत्रा (बहादुरी की मिसाल)'s image
International Poetry DayPoetry3 min read

कैप्टन विक्रम बत्रा (बहादुरी की मिसाल)

JAGJIT SINGHJAGJIT SINGH September 10, 2022
Share0 Bookmarks 26 Reads0 Likes

आज जिसे याद करके परिवार और उसके दोस्तों की आंखों में आसूं आ रहे।

आज प्रभु,नीलू दीदी और मेरी मां मिलकर देश के उस बहादुर बेटे विक्रम बत्रा के जन्मदिन पे सनी से देर रात को लिखवा रहे।


नाम था जिनका विक्रम बत्रा।

उठा लेते थे अपने देश के लिए अपनी जान तक का खतरा।


कारगिल की जंग में बहा दिया जिन्होंने अपने खून का एक एक कतरा।

हर लड़का नहीं बन पायेगा विक्रम बत्रा।


विक्रम और विशाल दो थे भाई।

कारगिल की जंग में शहीद हुऐ विक्रम बत्रा दोनों बहनें कभी अपने भाई को राखी ना बांध पाई।


कैसी मोहब्बत थी डिंपल चीमा की।

जिन्होंने किसी और से शादी करना तो दूर विक्रम बत्रा की विधवा बन के अपनी सारी ज़िन्दगी बिताई।

आज कल की युवा पीढ़ी से ऐसी मोहब्बत हो ना पाई। 


विक्रम बत्रा ने गुरु ग्रंथ साहब जी की हजूरी में डिंपल चीमा का दुपट्टा पकड़ के लिऐ थे फेरे ।

तब विक्रम बत्रा ने कहा था (ओए सरदारनीय ले आज से हम हो गये तेरे)


23साल की उम्र में विक्रम बत्रा को पहली पोस्टिंग में ही जम्मू पड़ा था जाना।

एक बहुत बड़े आतंकवादी को मार के इन्होंने घर छुट्टी पे था आना।


लेकिन तभी पाकिस्तान ने भारतीय जवानों पे बड़ी बेदर्दी से गोलियां बरसाना।

कई जवानों की जान चले जाना।


 ये बात से विक्रम बत्रा के घरवालों,डिंपल चीमा,और इनके दोस्त ने डर जाना।

अभी कुछ दिन की छुट्टी बाकी थी लेकिन विक्रम ने सबसे कहा मेरे अंदर से आवाज़ आई मुझे वापिस ड्यूटी पे है जाना।


अपने देश के लिऐ कुछ करके दिखाना।

दोस्त ने कहा था विक्रम तू सही सलामत लौट के वापिस आना।


तब विक्रम बत्रा ने कहा था ओए जानी या तो तिरंगा लहरा के आऊंगा या तिरंगे में लिपट आऊंगा।

लेकिन मैं आऊंगा जरूर। 

डिंपल चीमा से कहा था विक्रम बत्रा ने बस एक मिशन रह गया बाकी तू अपनी शादी का जोड़ा सिल्वा के रख शादी तुझसें करूंगा सबके सामने मैं जरूर।


लेकिन होनी को कुछ और था मंजूर।

कारगिल में अपनी बहादुरी से तिरंगा लहरा दिया।

देश की शान के वक्त अपने घरवालों से,दोस्त और डिंपल चीमा से किये हुऐ सारे वादों को विक्रम बत्रा ने भुला दिया।


जब भी कोई बहादुर बेटा तिरंगे में लिपट के घर वापिस आया। 

बच्चों से लेकर बजुर्गो तक हर उस फौजी ने सबको रुलाया।


कितना खुशनसीब हूं मैं जो प्रभु,नीलू दीदी और मेरी मां ने विक्रम बत्रा जैसे बहादुर बेटे से इस नादान सनी से इनके जन्मदिन पे लिखवाया।

शेरशाह फिल्म जिस जिस ने देखी किसी की भी आंखों से आंसू रुक ना पाया✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts