ग़ज़ल  (इबादत )'s image
Share0 Bookmarks 23 Reads0 Likes

#ग़ज़ल 

जब तक आसमान में चांद दिखेगा 

जब तलक आपकी इबादत में आपका दीवाना हर रोज़ कोई ना कोई ग़जल जरूर लिखेगा ।


चंद रातों की मैं अपनी ग़ज़ल में बातें करूंगा,

मुझे जब भी जन्म मिलेगा मैं हर जन्म तक आपकी ही इबादत करूंगा ।


मेरी इबादत यानी के आप हमेशा हंसते रहना ।

मैं लिखता रहूंगा आपके लिये कोई ना कोई प्यार भरी ग़ज़ल आप बस वक्त निकाल के पढ़ते रहना ।


बाग में कलियाँ खिलेंगी 

मेरी कोशिश यही रहेगी आपको पढ़ने के लिये हर बार अलग ही और प्यार भरी ग़ज़ल मिलेगी ।


आपके फ़ोन मैसेज का ऐसे रहता है मुझे इंतज़ार ।

जैसे जन्मों जन्मों को हो एक दूसरे से प्यार ।

 

ना दिन कटता ना कटती है रात ।

होती नहीं अब पहले की तरह हमारी बात ।

ना जाने कब होगी आपसे मुलाकात ।


आपके लिये लिखते रहना ये मेरा है फ़ज़ल !

क्योंकि आप हो इस शायर की सबसे खूबसूरत और प्यार भरी ग़ज़ल✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts