मुसाफिर नहीं हूं मैं || शायरी || एम ए हबीब इस्लामपुरी || Arman islampuri's image
Poetry1 min read

मुसाफिर नहीं हूं मैं || शायरी || एम ए हबीब इस्लामपुरी || Arman islampuri

एम ए हबीब इस्लामपुरीएम ए हबीब इस्लामपुरी March 9, 2022
Share0 Bookmarks 75 Reads1 Likes
इश्क किया हूं, मगर आशिक नहीं हूँ मैं। 
राह से गुजरा, पर मुसाफिर नहीं हूँ मैं। 
 

✍एम ए हबीब इस्लामपुरी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts