हम क्यों बार बार डरते हैं || शायरी || एम ए हबीब इस्लामपुरी || Arman islampuri's image
Poetry1 min read

हम क्यों बार बार डरते हैं || शायरी || एम ए हबीब इस्लामपुरी || Arman islampuri

एम ए हबीब इस्लामपुरीएम ए हबीब इस्लामपुरी March 8, 2022
Share0 Bookmarks 52 Reads1 Likes
हम क्यों बार बार डरते हैं??
मौत जब एक बार आनी है। 


✍ एम ए हबीब इस्लामपुरी 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts