मुस्कुराते नही थकते's image
Zyada Poetry ContestPoetry1 min read

मुस्कुराते नही थकते

i8hekhari8hekhar April 1, 2022
Share0 Bookmarks 16 Reads0 Likes

नफरतों के बाजार में जीने का अलग ही मजा है,

लोग रुलाते नहीं थकते और हम मुस्कुराते नहीं थकते।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts