तरस रहे हैं's image
Share0 Bookmarks 12 Reads0 Likes
यहां हम हैं जो बरसों से इक बूंद को तरस रहे हैं
मेरे हिस्से के बादल भी न जाने कहां बरस रहे हैं
मैं जिस राह गुमान से गुजरता था कभी उसके साथ
वो रास्ते आज मेरी तन्हाई पर बे-इंतिहा हँस रहे हैं

           – हर्ष सक्सेना

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts