दर्द's image
Share0 Bookmarks 30 Reads0 Likes
यूं ही नहीं मेरी कविताओं में इतना दर्द होता है
इस समाज ने हम लड़कों से रोने का हक़ छीना है
     - हर्ष सक्सेना

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts