खुद से लड़ने की कोशिश न कर( कविता )'s image
Poetry1 min read

खुद से लड़ने की कोशिश न कर( कविता )

हरिशंकर सिंह 'सारांश 'हरिशंकर सिंह 'सारांश ' May 26, 2022
Share0 Bookmarks 0 Reads1 Likes
मेरी लेखनी मेरी कविता 
खुद से लड़ने की कोशिश न कर 
(कविता) 

जिंदगी को जी
उससे उलझने की
कोशिश न कर ।

सुंदर सपनों के ताने-बाने बुुन
उनको समझने की
 कोशिश न कर।।

चलते वक्त के साथ चल
 उसमें से मिटने की
 कोशिश न कर ।।

अपने हाथों को फैला
खुलकर सांँस ले
 अंँदर ही अंँदर घुटने की
 कोशिश न कर ।।

मन में चल रहे
युद्ध को विराम दे 
बेकार में खुद से लड़ने की
 कोशिश न कर।।

कुछ बातें भगवान पर छोड़
 सब कुछ खुद संभालने की
 कोशिश न कर।।

जो मिल गया उसी में खुश रह
गलत रास्तों को अपनाने की
 कोशिश न कर।।

रास्ते की सुंँदरता निरख 
उस रास्ते पर जल्दी पहुंचने की
 कोशिश न कर ।।
खुद से लड़ने की कोशिश न कर ।।   

हरिशंकर सिंह सारांश  

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts