बड़े-बड़े ईमान बिक गए( कविता)'s image
Poetry1 min read

बड़े-बड़े ईमान बिक गए( कविता)

हरिशंकर सिंह 'सारांश 'हरिशंकर सिंह 'सारांश ' May 13, 2022
Share0 Bookmarks 1745 Reads2 Likes
मेरी लेखनी मेरी कविता 
बड़े-बड़े ईमान बिक गए
(कविता) मानव फितरत 

ज्ञान बिकेे ,ध्यान बिक गए
कलम बिकी ,सम्मान बिक गए ।

छोटी-छोटी सुविधाओं पर
 बड़े-बड़े ईमान बिक गए।।

सोच समझ कर मुंँह से बोलो
दीवारों के कान बिक गए ।।

उनसे पूछ जिंदगी क्या है? 
जिनके सब अरमान बिक गए।।

नग्न रह गईं जीवित लाशें
मुर्दों के परिधान बिक गए।।

चोरों को मत दोष दीजिए 
घर के ही दरबान बिक गए ।।

पशुओं की कीमत लगती है
 बिना मूल्य  इंसान बिक गए।।
बड़े-बड़े ईमान बिक गए ।।

हरिशंकर सिंह सारांश  

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts