वो खिड़की...'s image
Poetry1 min read

वो खिड़की...

HarishHarish November 20, 2021
Share0 Bookmarks 7 Reads0 Likes

वो खिड़की, वो मासूम चेहरा, 

वो मुस्कान याद आती है

क्यों आज़ भी ऐसा लगता है

जब गुजरता हूं उसकी गली से,

वो बाहर आ जाती है

   - हरीश @Harish_cso

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts