जब सोचता है तुम्हें, मेरा मन............'s image
Poetry1 min read

जब सोचता है तुम्हें, मेरा मन............

HarishHarish November 22, 2021
Share0 Bookmarks 6 Reads0 Likes

जब सोचता है तुम्हें, मेरा मन

ख़ुद को तुझमें खो देता है

जैसे समन्दर में गिरने के बाद,

दरिया अपना अस्तित्व खो देता है


-हरीश

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts