गिन कर तो चले थे's image
Kumar VishwasPoetry1 min read

गिन कर तो चले थे

HAPPY GIRIHAPPY GIRI March 4, 2022
Share0 Bookmarks 41 Reads1 Likes

एक – एक करके हमनें

सारे बंधन छोड़ दिए


दिल की ही गहराई में

गुज़रे सुबह छोड़ दिए ,


Math physics की लड़ाई में

ढाई आखर छोड़ दिए ,


थी परछाईं आनी बाकी ,

उसे अंधेरों संग छोड़ दिए ।


गिन के तो चले थे !

लो , दो कदम फिर छोड़ दिए ।

                                ,,,,,                       ~गिरी

  

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts