शायरी's image
Share0 Bookmarks 128 Reads1 Likes
सुबूत मांग रहा था वह दोस्ती का " हफ़ीज़ " ।
मैं  उस के सामने  इक आईना सजा आया  ।।
( हफ़ीज़ बिन अज़ीज़ )

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts