Chalo le chalo Chand per tum mujhe's image
Poetry1 min read

Chalo le chalo Chand per tum mujhe

guptasap28guptasap28 December 25, 2022
Share0 Bookmarks 8 Reads0 Likes

चलो ले चलो चाँद


चलो ले चलो चाँद पर तुम मुझे

मुझे धरती पर ,कही जाना नहीं

मैं तो हैरान हूं देखकर खुद मुझे

अब कुछ पाने की चाहत भी नहीं


तू ये जाने और ये माने 

मैं तुझ मे हूं कही और तू मुझ में हैं कहीं

क्या से क्या हो गई मे तेरे प्यार में

कहती हूँ कि तू रह पाएगा ना अब कहीं


मेरी साँसे अब तेरी साँसों से जुड़ीदिल भी अब सिर्फ तेरा हो चुका हैं कहीं

तू ही है मेरे हर प्रश्न का सिर्फ एक उत्तर

मैं जिंदा हूँ या नहीं अब ये जानती ही नहीं


तू ना हो तो घबरा जाता सा है मन

दोनो आँखे तुझे खोजती हर कहीं

मेरा ही है तू बोल दे एक बार

नहीं तो खो जाऊँगी मैं कहीं


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts