कैसे, क्या, क्यों?'s image
Romantic PoetryPoetry1 min read

कैसे, क्या, क्यों?

Gunja KapoorGunja Kapoor October 11, 2021
Share0 Bookmarks 122 Reads0 Likes

कलम लिखने को आतुर है

स्याही प्रवाह को तत्पर

अक्षर उन्नति को अग्रसर

शब्द खोज रहे मंजर हैं


कैसे लिखें

क्या लिखें

क्यों लिखें


निर्जन मरू

शून्य क्षितिज

व्यर्थ लक्ष्य


कैसे लिखें

क्या लिखें

क्यों लिखें


बिके विचार

बंधी सोच

बेमतलब रसूख


कैसे लिखें

क्या लिखें

क्यों लिखें


गहरा घाव

गुज़रा वक्त

गुम बोध


कैसे लिखें

क्या लिखें

क्यों लिखें


सादी बातें

सोती आंखे

सहमी यादें


कैसे लिखें

क्या लिखें

क्यों लिखें


थका सन्

थमा मन

थोड़ा फन


कैसे लिखें

क्या लिखें

क्यों लिखें


बदचलन सफर 

बदनाम शहर

बदनसीब पहर


कैसे लिखें

क्या लिखें

क्यों लिखें


कब पढ़ेगा 

कैसे सुनेगा

कौन समझेगा ...


यकीन है ये अँधेरा जल्द नहीं छटेगा

जो अब हम कुछ भी लिखें ...

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts