ढूंढ रही हूं's image
Poetry2 min read

ढूंढ रही हूं

Govind jhaGovind jha December 14, 2021
Share1 Bookmarks 50 Reads1 Likes

हां ढूंढ रही हूं आजादी

आज देश भले आजाद है

पर नारी आज भी पुरुषों के बाद है

हां ढूंढ रही हूं


पहुंच गई है कल्पना चांद पर

पर हकीकत में आज भी हूं जमीं पर

मगर भरोसा है मुझे अपने आप पर

ढूंढ रही हूं

देखती हूं स्वप्न खुली आंखों के तले

बूढ़े मां बाप की उम्मीदों को रखने जिंदा

रोशन हो कैसे मेरा ये जहान

जहां घर से निकलना दुश्वार है

सरेराह लूट जाती है इज्जत मेरी

मूकदर्शक बने खड़े है सब

क्योंकि मै उनकी बेटी नही हूं

ना उनकी बहन हूं ना उनके परिवार की हूं

आखिर क्यों करे वो मदद मेरी

मगर फ़िर भी बेशर्म लोगों के ताने तैयार हैं

ये कैसे संस्कार है इसके ऐसे बोलते हैं वो भी

जो ख़ुद दूसरों की इज्जत लुटने में

बराबर के भागीदार है और कहते हैं

आज ना निकलती घर से तो ये ना होता

इस 21वीं सदी की इस नई दुनिया में

हां ढूंढ रही हूं आजादी इस आजाद देश में

हां आजाद है देश पर सोच कैद है

हां आजाद है देश

पर घृणित मानसिकता आज भी कैद हैं

मामूली चोर को भी तुरंत सजा हो जाती है

पर रेप पीड़िता को न्याय के लिए

मरणोपरांत भी लड़ना पड़ता हैं क्यों

क्योंकि देश आजाद है

कहने को वक्त भी कम पड़ जाए

बाकी का काम सुबह का अखबार कर देती हैं.............


- गोविंद झा ©


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts