तिश्नगी's image
Share0 Bookmarks 66 Reads1 Likes

इस दिल की प्यास का तुम कुछ हाल न पूछो,

तब बूंद ही काफी थी अब समंदर भी कम है।

©गोपाल भोजक

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts