लम्हो के मोती's image
Share0 Bookmarks 102 Reads1 Likes

जिन लम्हो की माला पिरोई थी मैंने,


उन यादों के मोती बटोरता हूँ अब।


©गोपाल भोजक

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts