ग़म का समंदर's image
Share0 Bookmarks 92 Reads2 Likes

डूबने को बहुत है ग़मो का समंदर,


ये बादल क्यो बेवजह बरस रहे है।


©गोपाल भोजक


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts