दर्द को हमदर्द बना's image
Share0 Bookmarks 164 Reads0 Likes

दर्द को हमदर्द बना लड़ना छोड़ दिया,

हमने झूठी उम्मीद में जीना छोड़ दिया।

©गोपाल भोजक

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts