अरमानों की कब्र's image
Share0 Bookmarks 16 Reads0 Likes

दिल के इस ताजमहल में,

इक मुमताज आज भी है।

झांक के अगर देखोगे तुम,

अरमानों की कब्र वहां भी है।

©गोपाल भोजक

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts