पर्यावरण बचाओ --------'s image
Poetry1 min read

पर्यावरण बचाओ --------

Gopal singhGopal singh August 28, 2021
Share0 Bookmarks 21 Reads0 Likes

 ---------- पर्यावरण बचाओ -------- 


हमें एहसास नहीं कि हम किस क़दर 

सुख-साधन का सामान जोड़ रहे हैं ---

और अनायास ही ढकोसलों की ज़िन्दगी में 

वास्तविक जीवन से मुख मोड़ रहे हैं ---

देखिये ना ! 

हर वक़्त कितनी गर्मी व धुआँ छोड़ रहे हैं 

परत दर परत जमा होती ये साँसों में 

और उसी धुएँ की चादर ओड़ रहे हैं ---

ग्लोबल वार्मिंग का संकेत बार बार हो रहा है 

मगर अफ़सोस !

हम पर्यावरण की गर्दन मरोड़ रहे हैं ---

आओ सब मिलकर एक काम करते हैं 

कम करते हैं वो ऐशोआराम, और 

वो धुआँ जो छोड़ रहे हैं ---

और मिलकर हो लें साथ उनके जो 

लगा के पेड़ हरियाली जोड़ रहे हैं ---

आओ प्रण करें कि मिलकर हम

 प्रकृति की घुटन कम कर सकें 

और रफ़्तार ज़िन्दगी की थोड़ी थाम लें 

और रोक लें उनको भी, जो

बस दौड़ रहे हैं ---

साथ हो लें उनके जो 

लगा के पेड़ हरियाली जोड़ रहे हैं। 


(डा. गोपाल सिंह मेहता ) 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts