खुला आसमान's image
0 Bookmarks 55 Reads1 Likes

खुला आसमान पाने को जी चाहता है

उम्मीदों की पतंगें उड़ाने को जी चाहता है

रिश्तों की डोर कहीं उलझ ना जाए

उन्हें सुलझाने को जी चाहता है

ख्वाहिश है पतंग संग मैं भी उड़ के देखूं

ज़मीं के रंगी नज़ारे ज़रा मैं भी देखूं

रंगों में खो जाने को जी चाहता है

नहीं हूंगी परेशां अगर कट भी जाऊं

किसी बच्चे के हाथों अगर लुट भी जाऊं

जिसे भी मिलूं उसे खुशी देने को जी चाहता है

सकूं देने और सकूं ही पाने को जी चाहता है

बहुत ही खुश हूं भगवन् तेरी रहमतों से

तुझे ही तुझे पाने को जी चाहता है



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts