तुम's image
Share0 Bookmarks 43 Reads0 Likes
महज दिल के पहरे कि खातिर... 
लोग एक वक्त पर इतने हाज़िर.. 
जोड़-घटा कर बताना कल.. 
कितने कतल हुए है इस चहरे कि खातिर..

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts