तौहीन's image
Share0 Bookmarks 19 Reads0 Likes
इस क़दर तौहीन करना है मुझे ,
तेरी आग में हर बूंद जलू ,
ना लेना है सहारा कही , 
बस तु रहे और मैं रहू ,
चलता चले ये खेल अगर ,
जलना मुझे , तैयार हूं ,
इस क़दर तौहीन करना है मुझे ,
हर बार यूं ।

               ~ गणेश मिश्रा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts