पहले तू दुर की कहावत थी ,
आज सामने की यथावत है ।'s image
Poetry1 min read

पहले तू दुर की कहावत थी , आज सामने की यथावत है ।

गणेश मिश्रागणेश मिश्रा March 7, 2022
Share0 Bookmarks 26 Reads0 Likes


        

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts