बस इतना ही?'s image
Share0 Bookmarks 19 Reads0 Likes
मुझे मेरी कमजोरी यां बताती है 
अभी बहुत बाकी है ,
मैं अपने ज़ुबान पर खड़ा रहा नहीं अभी तक ,
गलती यों को दोहराना अफसाना नहीं बहाना है ,
अन्धकार से मित्रता सुहाते नहीं ,
लौ में नमी आ जाती है ,
मैं जब-जब टूटता हूं , 
उसकी बड़ी याद आती है।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts