आज़ादी's image
Share0 Bookmarks 0 Reads0 Likes
आज़ादी कि ज्वाला आज हल्की है ,
आज़ादी कि दिशा आज अलग ही है ,
आज़ादी आज भीतरी गुलामी से सोया है ,
गलती हमारी है हमने ही खुद को खोया हैं।
आज का दिन ही स्मृति को तथ्य से जोड़ता है ,
वो आज़ाद और सावरकर ही है जो सत्य की ओर मोड़ता है।
   


            ~ गणेश मिश्रा


अनुभवारूप श्रद्धांजलि

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts