अंधेरा's image
Share0 Bookmarks 14 Reads0 Likes
ये अंधेरा देखने नहीं देगा क्या ?
प्रगाढ़ होता प्रतीत सहन करने नहीं देगा क्या ?
विषय चर्चा से विचार भर आया ,
पुनः विचार करने नहीं देगा क्या?

मुझे मुझसे बचाना है ,
बदलते राह पे पत्थर बन जाना है ,
भीतर हूं मैं सहता बाहर मुझे चिल्लाना है ,
एक बीज आ गया है ,
जो मेरे बीच आ गया है ,

मैं अभी भी वहीं हूं ,
देखने वाला थोड़ा जमीं से जुड़ा है ,
मेरे शब्द घबरा रहें हैं ,
ये हां है या ना है ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts