अभी दायरा है's image
Share0 Bookmarks 13 Reads1 Likes
नया हर पल है किरदार वहीं है ,
बदलने-वाला किरदार नहीं है ,
बदलता तो बुलबुला है ,
यहां कोई नहीं बुलबुला है ,

बात साफ है सीधे हूं 
या भींगे हूं ,
कहता हूं जो वचन उसे क्या जीता हूं?
इतना ही काफी है ,
कर्ता का बात भी कर दूं या ज्जबात कह दूं ,
ना कहूं तो भी हया है ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts