आंखो की नज़ाकत's image
Poetry1 min read

आंखो की नज़ाकत

fabmurelafabmurela April 13, 2022
Share0 Bookmarks 12 Reads0 Likes
क्या कहे उन आंखों की नजाकत ए जनाब, 
जिनमे नाराजगी के बाद भी प्यार में कमी नज़र नहीं आती।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts