युद्ध...'s image
Share0 Bookmarks 562 Reads1 Likes

युद्ध न खुद सोता है न ही किसी इंसा को सोने देता है

ज़िंदगी भर संजोए ख़्वाबों को बिखेर हमें न रोने देता है..

ख़ूबसूरत बस्तियों को उजाड़ उसे कोई फ़र्क नहीं पड़ता

युद्ध तिनके जोड़ बनाए आशियानों को न संजोने देता है..

मौत और बर्बादी इसके दो दोस्त जो बिन बुलाए आते हैं

युद्ध ज़िंदगी तबाह कर लाशों को कंधे पर न ढोने देता है..

ज़हर-ए-ग़म का सैलाब उमड़ता है दरिया-ए-दर्द में मिलकर

युद्ध ज़ख़्म-ए-हयात बन दर्द-ए-हयात ठीक न होने देता है..

दौर-ए-बर्बादी देख इंसा रोना भी चाहें तो वो रो नहीं पाता

युद्ध नए सपने संजोने के लिए पलकें तक न भिगोने देता है..!!

#तुष्य

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts