ख़ुद की खोज़...'s image
Poetry1 min read

ख़ुद की खोज़...

Dr. SandeepDr. Sandeep October 23, 2021
Share0 Bookmarks 46 Reads1 Likes

मेरी ख़्वाहिश ही न थी ढूढ़ने की

मुझ में ही खोया था मेरा वज़ूद

जब भी निकला ख़ुद की खोज़ में

ढूंढता रहा अंदर ख़ुद को रोज़ मैं..!!



#तुष्य

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts