काशी…'s image
Share0 Bookmarks 288 Reads2 Likes

जहाँ कण-कण जन-जन में बसे शिव शंकर सन्यासी..

जहाँ स्वंय कालभैरव कोतवाल बनकर हो गए निवासी..

जहाँ गँगा की कल-कल लहरें भी बन जाती अविनाशी..

जहाँ तुलसी, कबीर और रैदास तीनों बन गए प्रभाशी..

जहाँ घाटों की रौनक बढ़ाते हैं मल्लाह और मवाशी..

जहाँ सुबह-ए-बनारस देखने आते स्वंय देव और अकाशी..

जहाँ की गलियों में बम-बम भोले बोल चलते हैं मुतलाशी..

जहाँ मृत्यु भी उत्सव सरीखी हंसकर गले लगाते बनारसवासी..

जहाँ मणिकर्णिका घाट से प्रस्थान चाहता हर भारतवासी..

ऐसी अनादि, अनंत, अडिग, अद्वितीय, अविचल है काशी..!!

#तुष्य

अविनाशी: शाश्वत, प्रभाशी: व्याख्याकार, मवाशी: चौपाए, अकाशी: देवगण, मुतलाशी: साधक

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts