ग़म-ए-ज़िंदगी...'s image
Poetry1 min read

ग़म-ए-ज़िंदगी...

Dr. SandeepDr. Sandeep July 8, 2022
Share0 Bookmarks 78 Reads2 Likes

अक्सर अकेले बैठे मैंने ख़ुद को रोते देखा है

ख़्वाहिशों को अपनी खुली नज़रों से खोते देखा है..

---

दर्द से मैं अपने शिकायत करूँ भी तो क्या करूँ

ख़ुशियों को अपनी जो ग़मों का भार ढोते देखा है..

---

ख़्वाबों को संजोने में कई रातें गुज़ारी जग कर

उन्हीं निगाहों में अपने ख़्वाबों को सोते देखा है..

---

अपने अरमानों की जो बसाई थी मैंने एक बग़िया  

उस बग़िया के काँटें मैंने ख़ुद को चुभोते देखा है..

---

मेरे हालात देख उसने भी किया मुझसे किनारा

मैंने अपनी कश्ती-ए-उम्मीद मंजधार में डुबोते देखा है..!!

#तुष्य

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts