ग़म-ए-जुदाई...'s image
Poetry2 min read

ग़म-ए-जुदाई...

Dr. SandeepDr. Sandeep February 27, 2022
Share0 Bookmarks 633 Reads2 Likes

शब-हा-ए-हिज्र-ए-यार में दिल मेरा रोया बहुत है

तेरी ग़म-ए-जुदाई में दिल-ए-क़रार खोया बहुत है..

हसरत-ए-इंतिज़ार-ए-यार में आँखें पथराई हैं मेरी

आलम-ए-तसव्वुर में पलकों को भिगोया बहुत है..

मेरे दिल-ए-मुज़्तर को रंग-ए-बहार से सँवार दे यार

मैंने दर्द-ए-जज़्बात को अल्फ़ाज़ों में पिरोया बहुत है..

देख राह-ए-इश्क़ में अपने ख़ून से गुलाब बो रहा हूँ

शाख़-ए-गुलाब के काँटों को पैरों में चुभोया बहुत है..

एक बार देख तो सही मेरे जिस्म पर कितने ज़ख़्म हैं

मैंने खून भरे अश्क़ों से ज़हन-ए-जज़्बात धोया बहुत है..

दर्द-ए-सफर की तक़लीफ को कम कर दे मेरे ख़ुदा

उसके जाने के बाद अपना वज़ूद भी खोया बहुत है..!!

#तुष्य

शब-हा-ए-हिज्र-ए-यार: प्रेमिका से बिछड़ने की रात, हसरत-ए-इंतिज़ार-ए-यार: दोस्त की प्रतीक्षा की इच्छा, आलम-ए-तसव्वुर: प्रेमिका के ध्यान में, दिल-ए-मुज़्तर: व्याकुल ह्रदय, शाख़-ए-गुलाब: गुलाब की टहनी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts