फ़साना-ए-दिल...'s image
Poetry1 min read

फ़साना-ए-दिल...

Dr. SandeepDr. Sandeep March 31, 2022
Share0 Bookmarks 611 Reads3 Likes

होश खो मौज-ए-मोहब्बत में इस क़दर बह गया

जो अभी न कहना था उस से वो भी कह गया..

लब-ए-ख़ामोश से जो अफ़साने बयाँ ना हुए कभी

कँपकँपाते होंठों से दिल के सारे फ़साने कह गया..

हर-लफ़्ज़ हर-अल्फ़ाज़ बुने थे मैंने उसकी यादों में

कुछ नज़्म बन ढल गए कुछ अश्क बन बह गया..

दर्द का दरिया आँखों से झर झर गिरता हो जैसे

ये मक़ान-ए-जिस्म ज़ख़्मों से जर्जर हो ढह गया..

न जाने कितने ही ख़्वाब बसाए थे इन आँखों में

वो सारे ख़्वाब अब बस एक राज बनकर रह गया..!!

#तुष्य

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts