क्रांति बीज's image
Share0 Bookmarks 35 Reads1 Likes


सदियों से 

जमी जड़ता को तोड़

अन्याय से स्याही निचोड़

अधिकारों का नया सवेरा लिख देता है

जब क्रांति करता है

महज धूप का एक छोटा सा टुकड़ा


अत्याचारों से डरे सहमे

कुम्लहाये से मन में

सत्यमेव जयते

का विश्वास जगा देती है 

जब क्रांति करती है

महज एक निर्भीक कलम


घटाटोप अंधकार

प्रतिकूल हवाओं के मन में

सिहरन भर देता है

जब क्रांति करता है 

महज एक नन्हा सा दिया


सर्वहारा के अधिकार के लिए

अन्याय की मरुभूमि में भी

क्रांति बीज बो देती है

शहीदों के बलिदान से निकली

रक्त की महज एक बूंद








No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts