हिन्दी हमारी शान's image
Poetry1 min read

हिन्दी हमारी शान

Dr. Aparna PradhanDr. Aparna Pradhan January 10, 2023
Share0 Bookmarks 8 Reads0 Likes

हिन्दी हमारी शान


हिन्दी हमारी पहचान

हिन्दी हमारा अभिमान 

हिंदुस्तान के मस्तक पर 

अक्षत रोली का तिलक लगा सम्मान  


मैंने प्रेयसी बन कर 

हिन्दी का आलिंगन किया  

 शब्द, वाणी, भाव को महसूस किया  

हिन्दी की वाणी से 

ईश्वर की रिझाया

पत्थर को पिघलाया 

भावनाओं के घुँघरू पहनकर  

पन्नों का श्रृंगार किया  


हिन्दी के जज़्बात को…

माँ की लोरी में सुनाया 

प्रेम के गीत में गुनगुनाया 

मीरा के भजन में गाया  

सूरदास के पद में सुनाया

कबीर की वाणी में सुनाया 

तुलसीदास के दोहे में सजाया 


हिन्दी का प्रेम 

बहती लहरों को सुनाया 

हवा की रवानी को सुनाया    

उड़ते पंछी को सुनाया  

चाँद सितारों को सुनाया! 


हिन्दी के श्रृंगार से …

भोर की लालिमा को निखारा 

सुरमई शाम को मदहोश बनाया  

 रात का आँचल सजाया

चाँदनी का रूप निखार 

प्रकृति का कण कण संवारा! 

 

डा॰ अपर्णा प्रधान

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts