शामें भी's image
Share0 Bookmarks 141 Reads1 Likes

हर सहर की भी इक बात होती है

शामें भी आख़िर कई

पहरों के बाद होती है


-दिनेश गिरिराज 


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts