लिखा हुआ's image
Share0 Bookmarks 133 Reads1 Likes

लिखा हुआ कुछ पढ़ लीजिए 

बुझा है मन यदि 

तो नया कुछ गढ़ दीजिए। 


-दिनेश गिरिराज 





No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts