बहुत कुछ's image
Share0 Bookmarks 117 Reads1 Likes

"हूँ" बहुत कुछ पर अस्थायी हूं,

स्थायी रहने पर बहुत कुछ ठहर जाता है।


-दिनेश गिरिराज 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts