सपनों का स्वेटर's image
Learn PoetryPoetry1 min read

सपनों का स्वेटर

Dilpreet  chahalDilpreet chahal May 25, 2022
Share0 Bookmarks 71 Reads2 Likes

सपने बुनने की कला 

कहीं न कहीं 

मुझे मां से आयी 


मां जो कभी खुली आंखों से 

तो कभी आंखें मूंद कर  

स्वेटर बुनती रहती 

उधेड़ बुन के बीच कितने सवाल 

कितने दर्द परो लैती 

मगर बुनाई चलती रहती 


बच्चों की हसीं में घिरी मां 

अख़बार पड़ते 

रसोई में बैठे 

और कभी कभी 

अपनी मां को याद करते वक्त 

मां बुनाई करना ना भूलती 


मौसम का आना और जाना 

मां को बुनने से ना रोक पाता 

भीड़ भाड़ में भी 

चलती बस में

बाबा के इंतजार में बैठे बैठे 

बस चार सिलाईयां डाल दूं 

कह कर घंटों बैठी रहती 


सचमुच बुनना 

कितना अच्छा होता है 

सपनों का बुनना हो या स्वेटर का 

कितने दर्द

कितने पल

अनचाहे अहसास 

सब ऊन के गोलों में लिपट कर 

कुछ नया बनाते हैं


मां की तरह 

मैंने भी सपनों का स्वेटर 

पूरा कर लिया।

पलकों तले 

दबी रोशनी को 

मैंने अपने भीतर भर लिया 


मैंने सपनों का 

स्वेटर पूरा कर लिया


•दिलप्रीत चाहल

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts