तन्हाई's image
Share0 Bookmarks 60 Reads1 Likes

महफिलों के कारण घर से निकल जाता था,

अब बंद कमरों में तन्हा यहां से वहां डोलता हूं ।


पहले दस्तकों से भी परेशान था मैं,

अब पडोसी के घर पे पडी दस्तक पर, अपना दरवाजा खोलता हूं।।


-दिगंत


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts