खुद's image
Share0 Bookmarks 63 Reads1 Likes

बदले हम इतना जमाने के मुआफ़िक।

कि खुद से मिले तो पहचान न सके।


कांटे हैं दिल-ए-दहलीज पर इतने।

कि कोई गैर अंदर आ न सके।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts