व्यथित मन की आवाज़'s image
Poetry1 min read

व्यथित मन की आवाज़

lighting deep (deepanshu vishwakarma)lighting deep (deepanshu vishwakarma) March 10, 2022
Share0 Bookmarks 86 Reads0 Likes
आठ घंटे दिन के , तीस दिन महीने में
करता हूं काम , चंद रूपए कमने को      
भूल जाता हूं दुख दर्द अपने , जिम्मेदारियां निभाने में
लौटता हूं जब कमरे को , पिंजरे सा आभास होता है
कोई पूछने को हाल मेरा , न मेरे पास होता है 
फोन पर बातें होती हैं , के घर कब आओगे
छोटें पूछते हैं , भईया मेरे लिए क्या लाओगे
मां पापा से भी ख़ैर ख़बर की बातें हो जाती हैं
फोन कटता है जब , तो आंखें नम हो जाती हैं
यू ही दिन अब विराम लेता है
यहाँ तो सिर्फ काम और काम ही होता है
और करता हूं काम मैं , चंद रूपए कमने को

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts