जख्म़'s image
Share0 Bookmarks 77 Reads0 Likes

जख्म़ पुराने अब बुलाने लगे है,

आहिस्ता-आहिस्ता अब फिर वो हमे सताने लगे है।

~दीपक पाटकार

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts