जिंदगी's image
Share0 Bookmarks 33 Reads0 Likes
"गुनगुनाने के लिए है जिंदगी, 
 मुस्कुराने के लिए है जिंदगी,
आंसुओं की बात करना छोड़ दो,
 खिल- खिलाने के लिए है जिंदगी!"

दीपक (बेख्याली)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts